*न्यूज़ फतेहपुर सीकरी*

फतेहपुर सीकरी की स्मारकों को देखने के लिए यूं तो देश-विदेश से प्रतिदिन हजारों सैलानी आते हैं। प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कुछ ही दिन पहले फतेहपुर सीकरी मैं चिश्ती की दरगाह पर चादर पोशी कर लाल पत्थर से बनी स्मारकों का भ्रमण किया था। आज फतेहपुर सीकरी में माननीय राज्यपाल की बेटी अनर पटेल, दामाद जयेश पटेल, व परिवार के अन्य सदस्यों ने फतेहपुर सीकरी की स्मारकों को निहारा। परिवार के सदस्यों ने अकबर के सपनों का शहर फतेहपुर सीकरी मैं जोधा बाई पैलेस, पंचमहल, दीवान ए खास, दीवान ए आम आदि सभी स्मारकों का भ्रमण के साथ मजार हजरत शेख सलीम चिश्ती पर दर्शन कर चादर पोशी की साथ ही एसडीएम किरावली भी मौजूद रहे। माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार बुलंद दरवाजा परिसर के 100 मीटर की परिधि में कोई भी कारोबार नहीं हो सकता इसके बावजूद बुलंद दरवाजा परिसर के अंदर ही नवाब इस्लाम खां के मजार के पीछे प्रतिदिन दुकानें सजती हैं। चाहे बड़ी से बड़ी बीआईपी आ जाए लेकिन यह दुकान वहां से नहीं हटती है। ऐसा नहीं कि परिसर के अंदर पुलिस की ड्यूटी ना हो। एसआईएस सिक्योरिटी गार्ड व पुलिस के सिपाहियों की तैनाती होने पर भी यह दुकाने खुलेआम सजी रहती है। माननीय राज्यपाल के आने के दिन भी यह दुकाने सजी रही थी। और आज भी यह दुकाने सजी हुई हैं। पूर्व में भी कई समाचार पत्रों के माध्यम से शासन व प्रशासन को इन दुकानों के बारे में अवगत कराया गया है। परंतु यह दुकाने वही की वही लगी हुई है। वहीं कई महीनों से मजार हजरत शेख सलीम चिश्ती का निर्माण कार्य रुका होने की वजह से इमारत खंडहर जैसी नजर आ रही है। कई महीनों से पाढ़ बांध करके कार्य को अधूरा छोड़ दिया गया है। आखिर यह अनदेखी क्यों है?

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *